नासा ने चेताया- 2023 में हो सकता है मानव जाति का अंत

इन्फोपत्रिका, डेस्क.

एक उल्का पिंड 2018LF16 पृथ्वी की तरफ काफी तेजी से बढ़ रहा है. मगर पक्के तौर पर यह नहीं कहा जा सकता कि यह पृथ्वी से टकरा ही जाएगा क्योंकि पृथ्वी अपने ऑर्बिट पर लगातार घूमती रहती है. हालांकि नासा ने कहा है कि इस उल्कापिंड के पृथ्वी से टकराने के चांस बेहद कम हैं. इस संभावना का प्रतिशत इतना कम है कि समझिए एक लाख में से एक चांस है.

डराती हैं नासा की वाणियां

दुनिया की सबसे बड़ी स्पेस संस्था नासा का मानना है कि अगले लगभग 100 सालों में लगभग 62 बार ऐसे मौके बन सकते हैं जबकि कोई उल्का पृथ्वी से टकराए. नासा के अनुसार, 8 अगस्त 2023 और 1 अगस्त 2025 के दिन सबसे बड़ी आशंका बन रही है.

हम बचने का हरसंभव प्रयास करेंगे

asteroid 2018 LF16
कुछ इस तरह की स्थिति बन रही है.

हालांकि नासा ने यह भी कहा है कि इन उल्का पिंडों का पृथ्वी से टकराने की संभावना बेहद कम है फिर भी सुबह इस खगोलीय संभावनाओं पर लगातार नजर रखेंगे. और कोशिश करेंगे कि पृथ्वी को किसी तरह की कोई हानि ना पहुंचे.

यदि टकराव हुआ तो क्या होगा

यदि कोई ऐसी स्थिति आती है कि कोई उल्का पिंड पृथ्वी से टकरा जाए तो बड़ी भयंकर स्थिति उत्पन्न हो सकती है. यदि एक उल्का पिंड पृथ्वी से टकराती है तो लगभग 50 मेगाटन TNT के बराबर ऊर्जा पैदा होगी. और यह ऊर्जा पृथ्वी को पूरी तरह से खत्म कर देने के लिए काफी है. क्योंकि बताया गया है कि इस 2018LF16 उल्का पिंड की लंबाई और चौड़ाई 800 मीटर के आसपास है.

loading...