इस लड़की का दावा, पेशाब पीने से दमकी त्‍वचा, ठीक हुए मुहांसे

Urine therapy's miracle

इन्‍फोपत्रिका हेल्‍थ डेस्‍क


अमेरिका के मैरीलैंड में रहने वाली जूलिया सिलिमेन कुछ ऐसा पीती हैं जिसे देखकर उसके अपने घरवाले भी पहले नाक सिकोड़ते थे। लेकिन उनके इस खास पेय पदार्थ के चमत्‍कारित असर को देखकर अब वे भी इसे पीने की कोशिश करने लगे हैं। पीये भी क्‍यों न जब मुहांसों से भरा जूलिया का चेहरा अब ठीक जो हो गया है। साथ ही जूलिया का वजन भी 11 किलो कम हो गया है। अब आप ये सोच रहे होंगे की जूलिया आखिर ऐसा क्‍या पीती हैं। आपको जानकार हैरानी होगी जूलिया अपना पेशाब पीती हैं। वो इसे एक सुपर ड्रिंक मानती है। जूलिया ही नहीं बल्कि अमेरिका में बहुत से ऐसे लोग हैं जो अब यूरिन थैरेपी ले रहे हैं।


Urine therapy
Image credit : Daily Mail

क्‍या है यूरिन थैरेपी

जूलिया का कहना है कि यूरिन थैरेपी सदियों पुरानी चिकित्‍सा पद्धति है। सैंकड़ों सालों से लोग अपना पेशाब पीते आए हैं और अपने पेशाब से चेहरे और आंखों को धोते हैं। पेशाब पीने और इससे चेहरा और आंखे धोने से त्‍वचा मुलायम होती है और निखरती है, कील-मुहांसे ठीक होते हैं, वजन कम करने में सहायता मिलती है और व्‍यक्ति तरोताजा रहता है तथा स्‍वयं को बड़ी उम्र में भी जवान महसूस करता है।

जूलिया पर हुआ है चमत्‍कारिक असर

ब्रिटेन के समाचार-पत्र डेली मेल को जूलिया ने बताया कि उसका चेहरा मुहांसों से भरा हुआ था। उसका वजन भी थोड़ा बढा हुआ था। उसे किसी त्‍वचा रोग विशेषज्ञ के पास जाने से डर लगता था क्‍योंकि वे बहुत सी दवाइयां देते हैं और खानपान संबंधी परहेज बताते हैं। जूलिया ने कहा कि तभी उन्‍हें किसी ने यूरिन थैरेपी के बताया। इंटरनेट पर इसके बारे में और पढने के बाद इसे अपनाने का फैसला लिया।


जूलिया का कहना है कि वो अपना पेशाब बोतल में भरकर रखती हैं। दिन में तीन बार वो इसे पीती हैं और अपने पेशाब को अपने चेहरे पर मुहांसों पर लगाती हैं। इस थैरेपी का जबरदस्‍त असर हुआ। उसके मुहांसे न केवल तेजी से ठीक हुए बल्कि उसका चेहरा चमकने भी लगा। साथ ही उसका वजन भी करीब 11 किलो कम हो गया।

किडनी विशेषज्ञ बोले, सेहत से खिलवाड़ कर रहे हैं लोग

अभी तक कोई भी ऐसी रिसर्च नहीं हुई है जिसमें पेशाब पीने के फायदे के बारे में बताया गया हो। यूनिवर्सिटी ऑफ सिडनी में कार्यरत यूरोलोजिकल सर्जन हेनरी वू का कहना है कि अभी तक कोई भी ऐसे वैज्ञानिक परिणाम सामने नहीं आए हैं जो यूरिन थैरेपी के चिकित्‍सीय गुणों को साबित करते हों। जो लोग स्‍वयं का पेशाब पी रहे हैं वो अपनी सेहत से खिलवाड़ कर रहे हैं। उनका कहना है कि ज्‍यादा पेशाब पीना किडनी पर बहुत गलत असर डालता है। इससे किडनी में विषाक्‍त पदार्थों की मात्रा बढ जाती है और ऐसा होने से किडनी फेल भी हो सकती है।

loading...