विधानसभा बनी अखाड़ा : जूते लेकर एक-दूसरे को मारने दौड़े विधायक

Abhay Chautala v/s Karan Singh Dalal

इन्‍फोपत्रिका डेस्‍क


मॉनसून सत्र के तीसरे और अंतिम दिन विधायकों ने हरियाणा विधानसभा में बेशर्मी की सभी हदें पार कर दीं। विधानसभा में मंगलवार को बेहद दुर्भाग्‍यपूर्ण हालत पैदा हो गई। कांग्रेस विधायक करण सिंह दलाल और इनेलो विधायक व नेता प्रतिपक्ष अभय चौटाला में जबरदस्‍त भिड़ंत हो गई। मामला शब्‍द बाण छोड़ने से जूते तक आ गया। आपे से बाहर हुए कांग्रेस विधायक दलाल और चौटाला ने एक-दूसरे पर जूते निकाल लिये। करण दलाल को इस व्‍यवहार के लिए विधानसभा से एक साल के लिए निलंबित कर दिया गया। अभय चौटाला के खिलाफ वित्‍तमंत्री कैप्‍टन अभिमन्‍यु ने निंदा प्रस्‍ताव रखा।


Abhay Chautala v/s Karan Singh Dalal

दलाल की दलील पर हुआ विवाद

दरअसल कांग्रेसी विधायक करण दलाल ने गरीबों के राशन कार्ड काटने का मुद्दा उठाते हुए सरकार पर हरियाणा को पूरे देश में कलकिंत करने की बात कही। दलाल के इस बयान के बाद बीजेपी विधायकों ने जोरदार हंगामा करना शुरू कर दिया। भाजपा विधायकों को दलाल के हरियाणा को कलंकित कहने पर आपत्ति थी। इनेलो के नेता व नेता प्रतिपक्ष अभय चौटाला ने भी दलाल के बयान की निंदा की और करण दलाल को सदन से निलंबित करने की मांग स्‍पीकर से की।


ये भी पढ़ें- बिजली उपभोक्‍ताओं को भाजपा सरकार ने दिया बड़ा तोहफा


चौटाला की मांग पर दलाल तैश में आ गए। उनकी चौटाला के साथ तीखी नोकझोंक हुई। करण दलाल आपा खो बैठे और अपना जूता निकालकर हाथ में ले लिया। करण दलाल के ऐसा करते ही अभय चौटाला भी तैश में आ गए और उन्‍होंने भी अपना जूता निकाल लिया। दोनों जूता हाथ में लेकर एक-दूसरे की और बढे। सदन में मौजूद विधायकों और मार्शलों ने दोनों को ही पकड़ लिया और बीच-बचाव किया।

दलाल एक साल के लिए निलंबित

इस पूरे घटनाक्रम के दौरान सदन में जोरदार हंगामा हुआ और सदन की कार्यवाही को 15 मिनट के लिए स्थगित कर दिया गया। सदन के दोबारा शरू होते ही वित्त मंत्री कैप्टन अभिमन्यु ने करण दलाल के निलंबन का प्रस्ताव पेश किया जिसे इनेलो के समर्थन के साथ सर्वसम्मति से पारित कर दिया गया। प्रस्ताव पारित होने के साथ ही करण दलाल को एक साल तक के लिए विधानसभा से निलंबित कर दिया गया।

हुड्डा ने की दलाल को बचाने की कोशिश

पूर्व मुख्‍यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा ने निंदा प्रस्‍ताव पर दलाल के पक्ष में दलील रखने की कोशिश की, लेकिन उनकी कोशिश सफल नहीं हुई और यह पारित हो गया और करण सिंह दलाल को सदन की कार्यवाही से एक साल के लिए निलंबित कर दिया गया।

loading...