हानिकारक हैं मैगी, मैकरोनी और पास्ता? जान लेंगे तो खाना छोड़ देंगे आप

Bad Effects of Macaroni, Pasta and Maggi

इन्फोपत्रिका, नई दिल्ली।

जिसे हम सुरक्षित आहार (सेफ फूड) समझकर खाते रहते हैं, वो हमारी सेहत के लिए ज्यादा हानिकारक है। आम लोग ये मानकर चलते हैं कि पैकेट में बंद भोजन ज्यादा सुरक्षित होता है। मगर ये सच नहीं है। पैकेट बंद भोजन में एक ऐसा कैमिकल पाया जाता है जो हमें कई बीमारियों से ग्रस्त कर सकने में सक्षम है।

इस मॉनस्टर का नाम है थैलेट्स

एक अध्ययन के अनुसार, चीज़ (Chease) से बने ऐसे 30 प्रॉडक्ट में वही खतरनाक कैमिकल पाया गया। चलिए पहले इस कैमिकल के बारे में बता देते हैं। इस कैमिकल का नाम है थैलेट्स (Phthalates)। दरअसल ये एक कैमिकल नहीं है, ये कैमिकल्स की एक फैमिली है, जिसे प्लास्टिक को नर्म (सॉफ्ट) बनाने के लिए इस्तेमाल में लाया जाता है। इस कैमिकल फैमिली को सीधे तौर पर खाद्य पदार्थों में नहीं डाला जाता, मगर प्लास्टिक के रैपर्स को ज्यादा पतला और नर्म करने के लिए इसे उपयोग में लाया जाता है। इसके अलावा प्लास्टिक के पैकेट पर प्रिंटिंग के लिए इस्तेमाल होने वाली स्याही में भी इसी कैमिकल फैमिली का उपयोग होता है।

ये भी पढ़ें- सेक्स टाइम बढ़ाने की कुदरती दवा

दुनियाभर के बड़े देशों में ये हानिकारक कैमिकल काफी समय पहले बैन किए जा चुके हैं। मगर भारत में फूड एंड ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन ने इन्हें प्रतिबंधित नहीं किया है। पाउडर चीज़ से निर्मित वस्तुओं में ये कैमिकल ज्यादा मात्रा में पाए जाते हैं। खासकर मैकरोनी, मैगी, पास्ता इत्यादी में। चूंकि ये कैमिकल डायरेक्ट उप्ताद में नहीं डाला जाता, तो सवाल ये उठता है कि ये खाद्य वस्तुओं में कैसे आ जाता है? इसका उत्तर यह है कि प्रिंट वाली पैकिंग के बाद ये कैमिकल खाद्य पदार्थों में ट्रांसफर होने लगता है। वस्तु जितना ज्यादा समय तक पैकिंग में बंद रहती है, इसका असर भी उतना ही होता है।

अध्ययन में बताया गया है कि चीज़ पाउडर से बने खाद्य पदार्थों में इस कैमिकल की मात्रा सामान्य से 4 गुणा तक अधिक पाई गई है। और तो और, जिन उत्पादों पर ऑर्गेनिक उत्पाद लिखा रहता है उनमें भी ये कैमिकल पाया जाता है।

इससे होने वाले नुकसान क्या हैं?

थैलेट्स केमिकल्स टेस्टोस्टेरोन जैसे हार्मोन्स को प्रभावित करते हैं। ये हार्मोन पौरुषत्व के लिए अहम है। इसके चलते बच्चों में जन्मजात बीमारियों और उनके सीखने संबंधी डिसऑर्डर हो सकते हैं। इसके अलावा महिलाओं की सेहत पर भी इस कैमिकल्स का अच्छा खासा असर होता है। महिलाओं के लिए ये ज्यादा खतरनाक इसलिए हैं, क्योंकि ज्यादातर कॉस्मेटिक प्रॉडक्टस में इसका प्रभाव होता है, खासकर लिप्स्टिक में। इससे होने वाली आम बीमारियां –

1. अस्थमा
2. ब्रेस्ट (स्तन) कैंसर
3. मोटापा [मोटापा कम करने के टिप्स]
4. मधुमेह (शुगर)
5. मानसिक विकृति
6. न्यूरो (दिमागी) बीमारियां [यूं करें अपना दिमाग तेज]
7. ध्यान केंद्रित न हो पाना
8. व्यवहार संबंधी समस्याएं
9. प्रजनन संबंधी दिक्कतें [दुनियाभर के मर्द हो रहे नामर्द, जानिए क्यों?]

ये भी पढ़ें- स्मोकिंग छोड़ना अब आसान, बिना किसी दवाई के

तो इन्फोपत्रिका की तरफ से आपको ये सलाह दी जाती है कि पैकेट बंद भोजन पर कम से कम निर्भर रहें। कोशिश करें कि घर का बना खाना ही खाएं।

loading...