चैन से जीना है तो भरपूर नींद लो ना भाई

Sleep and Health

इन्‍फोत्रिका हेल्‍थ डेस्‍क
जिंदगी में सफलता का प्‍लेन पकड़ने के चक्‍कर में अगर आप नींद को दांव पर लगा रहे हैं तो बहुत गलत कर रहे हैं। सफल होने के लिए आपका शरीर और दिमाग तंदरूस्‍त होना लाजिमी है। ऐसा आप भरपूर नींद लिए बिना कर नहीं सकते। तो भईया, ये चार-छह घंटे सोकर काम चलाने के चक्‍कर से बाहर आइये और कुछ ऐसा शैड्यूल बनाइये जिससे आप भरपूर खर्राटें मार सकें।

जरा इन नींद विज्ञानियों की भी सुन लो

Sleep and Health
आपको कितनी नींद लेनी है ? कब लेनी है ? क्‍यों लेनी है ? और कैसे लेनी है? इन सब सवालों का जवाब ढूंढ़ने के लिए बहुत से वैज्ञानिक और डॉक्‍टर अपनी नींद खराब कर रहे हैं। ऐसी ही एक शोधकर्ता हैं अमरीका में जॉन हॉपकिन्स यूनिवर्सिटी की एसोसिएटेड प्रोफेसर रैचेल सलास। सलास नींद संबंधी विकारों की विशेषज्ञ हैं। अपने लंबे शोध के बाद सलास ने पाया है कि केवल नींद लेने से आपका काम नहीं चलेगा। घर और बाहर पूर्ण सफलता पाने और अपना 100 परसेंट देने के लिए आपको भरपूर नींद लेनी होगी। मशहूर अंग्रेजी वेबसाइट बीबीसी कैपिटल को सलास ने नींद को लेकर और भी बहुत कुछ बताया है।


ये भी पढ़ें- अपने PF खाते की डिटेल यूं करें चुटकियों में पता

ज्‍यादा सोओगे तो दिमाग भरेगा फर्राटे

प्रोफेसर रैचेल सलास ने बीबीसी कैपिटल को बताया कि भरपूर नींद के बाद आपको ज्‍यादा ऊर्जा मिलेगी। आपका मूड अच्‍छा होगा। आपको नये आइडिया जल्‍दी क्लिक करेंगे। आप टीम में बेहतर योगदान दे पाएंगे। यही नहीं आप लोगों से जल्‍दी जुड़ेंगे और आइडिया शेयर भी अच्‍छे से करेंगे।

ये है एक घंटा ज्‍यादा सोने का कमाल

2013 में बीबीसी ने सरे यूनिवर्सिटी के स्लीप रिसर्च सेंटर फ़ॉर एक्सपेरिमेंट के साथ मिलकर एक शोध किया था। शोध के नतीजे चौंकाने वाले आए। कंप्‍यूटर टेस्‍ट देने वाले प्रतिभागियों को उनके नियमित शैड्यूल से एक घंटा ज्‍यादा सोने को कहा गया। इस एक अतिरिक्त घंटे की नींद से कंप्यूटर टेस्ट में प्रतिभागियों की मानसिक दक्षता बढ़ गई।


ये भी पढ़ें- पॉलीहाउस में कैसे करें लाखों की कमाई, इस किसान से जानिए

कम नींद दिमाग ही नहीं शरीर का भी दही कर देगी

Sleep and Health
मिशिगन यूनिवर्सिटी में अक्टूबर 2018 में हुए रिसर्च से पता चला था कि नींद कम होने से याददाश्त पर बुरा असर पड़ता है। बैंकिंग और सर्जरी के क्षेत्र के लोगों की मानसिक और शारीरिक दक्षता कम हो गई। अगर आप दो लगातार रातों में 6 घंटे से कम सो रहे हैं तो यह अगले छह दिनों तक आपको सुस्त बना सकता है। 2018 में स्वीडन में प्रकाशित एक अध्ययन के मुताबिक जो लोग कम सोते हैं उनकी मृत्युदर ज्यादा होती है, खास तौर पर 65 साल से ऊपर के बुजुर्गों में ऐसा पाया गया।


कम सोने से मोटापा, डायबिटीज़, हाई ब्लड प्रेशर और दिल की बीमारियां हो सकती हैं। नींद में कटौती करने से आपका वजन बढ़ सकता है, आंखों के नीचे झुर्रियां पड़ सकती हैं और आप थके-थके दिख सकते हैं। अब इन सब बीमारियों का इलाज भरपूर नींद लेना ही है, तो फिर जल्‍दी काहे को नहीं सोते।

loading...