प्रेग्नेंसी में इन बातों का ध्यान रखेंगे तो बच्चा पैदा होगा स्मार्ट!

Health pregnancy in hindi

इन्फोपत्रिका, हेल्थ डेस्क.
मां बनने का एहसास कुछ खास होता है. जब आपको पता चल जाए कि आपके पेट में एक बच्चा है तो आपके लिए कुछ चीजों पर ध्यान देना बहुत जरूरी हो जाता है. क्योंकि अब आप अकेली नहीं हैं, आपके साथ एक बच्चा भी है, जिसका विकास और जीवन आपके हाथों में हैं. ये पूरी तरह मां पर निर्भर करता है कि वह अपने बच्चे और खुद को किस रूप में देखना चाहती है.

तो ऐसे में प्रेग्नेंसी के दौरान बहुत सारी सावधानियां रखने की जरूरत पड़ती है. आज हम आपको ऐसी ही कुछ बातों या सावधानियों के बारे में बताएंगे, जिससे आपकी गर्भावस्था (प्रेग्नेंसी) बच्चे के जन्म तक स्वस्थ (हेल्दी) बनी रही.

डॉक्टर के निर्देशों का पूरा पालन करें

बहुत जरूरी है कि आप डॉक्टर द्वारा बताए गए सभी निर्देशों का अच्छे से पालन करें. क्योंकि हर किसी की प्रेग्नेंसी में अलग स्थिति हो सकती है, इसलिए सबसे जरूरी है कि लगातार डॉक्टर के संपर्क में रहें और उनके दिए हर निर्देश का पालन करें.

अच्छा और पूरा खाएं

अच्छा और पूरा खाने से मतलब ज्यादा खाने से नहीं है, बल्कि संतुलित और संपूर्ण भोजन से है. इसमें आपको निम्म चीजें जरूर लेनी चाहिएं-

फल – एक दिन में फलों के कम से कम 4 टुकड़े जरूर खाएं.
सब्जी – जो सब्जी कच्ची खाई जा सकती हो, उसे कच्चा ही खाएं. जैसे कि ब्रोकली, पत्ता गोभी, गाजर, टमाटर इत्यादी.
कार्बोहाइड्रेट्स – बच्चे के विकास के लिए कार्ब्स जरूरी होते हैं. होलग्रेन जैसे कि गेहूं का आटा ज्यादा लें और मैदा कम से कम कर दें. होलग्रेन से आपको फाइबरयुक्त कार्ब्स मिलते रहेंगे.
प्रोटीन – अंडे, मछली या फिर दूध का उपयुक्त सेवन करें. यदि आप मछली खाती हैं तो सप्ताह में कम से कम एक बार मछली जरूर खाएं.

सप्लीमेंट लेना शुरू करें

प्रेग्नेंसी के पहले तीन महीनों तक आपको फॉलिक एसिड (Folic Acid) लेना जरूरी है. पूरी प्रेग्नेंसी के दौरान और बाद में भी आपको विटामिन-डी (Vitamin D) लेना चाहिए. इससे बच्चे का विकास पूर्ण रूप से होता है और मां के शरीर में भी शक्ति बनी रहती है. आपको कितना सप्लीमेंट लेना चाहिए, इस बारे में अपने डॉक्टर से परामर्श ले लें.

जरूरी नहीं है कि आपको महंगी दवाई ही लेनी है, आप चाहें तो सरकारी अस्पताल से भी आपको ये दवाएं मुफ्त में मिल सकती हैं. सरकार ने गर्भवती महिलाओं के लिए काफी अच्छी स्कीम जारी की है.

खाने में सफाई महत्वपूर्ण

गर्भवती महिलाओं को दवाओँ और खाने के साथ-साथ सफाई का ध्यान भी रखना चाहिए. खाने पकाने से लेकर खाने को स्टोर करके रखने तक में सावधानी बरतनी चाहिए. खाना इस प्रकार स्टोर करें कि वो संक्रमित न हो. इस तरह पकाएं कि वो किसी बैक्टीरिया के संपर्क में न आए. इसके लिए सबसे महत्वपूर्ण बात है कि आप खाने के बर्तनों को स्वच्छ रखें.

एक्सरसाइज या योग करें

हालांकि महिलाओं को बहुत सारा काम करना पड़ता है, मगर उन्हें प्रेग्नेंसी के दौरान योग या फिर हल्की-फुल्की एक्सरसाइज जरूर करते रहना चाहिए. प्रेग्नेंट महिलाओं के लिए खास तरह के योगासन और एक्सरसाइज की क्रियाएं होती हैं, जिन्हें फॉलो करके वे खुद और अपने बच्चे को तंदुरुस्त रख सकती हैं.

एल्कोहल और स्मोकिंग से दूर रहें

ऐसी स्थिति में महिलाओं को शराब तो बिलकुल भी नहीं लेनी चाहिए. कुछ लोग इस भ्रम में रहते हैं कि एक सुरक्षित मात्रा तक (कम) शराब कोई नुकसान नहीं करती. मगर सच्चाई तो ये है कि शराब कम या ज्यादा हानिकारक ही है.

न केवल शराब, बल्कि धूम्रपान भी बच्चे की सेहत के लिए खतरा है. इससे बच्चों के दिमागी विकास पर बुरा असर पड़ता है. गर्भवती महिलाओं को ऐसे लोगों से भी दूर रहना चाहिए, जो उनके आसपास स्मोकिंग करते हैं.

कैफीन (कॉफी) न लें या कम कर दें

आमतौर पर प्रेग्नेंसी में सुस्ती आने लगती है और इसे भगाने के लिए महिलाएं कॉफी को अच्छा मानती हैं. मगर कॉफी में कैफीन होता है जो बच्चे का शारीरिक और मानसिक विकास पर बुरा असर डाल सकता है. कॉफी का सेवन करने वाली महिलाओं से पैदा होने वाले बच्चे आमतौर पर कम वजन के होते हैं.

आराम करना जरूरी है

गर्भावस्था में महिलाओं को पूरा आराम भी करना चाहिए. ये एक ऐसी अवस्था है, जिसमें नींद बहुत आती है. जब नींद आती है, तब नींद लेनी चाहिए.

Leave a Reply

loading...