Blood Pressure के लिए अब कोई दवा लेने की जरूरत नहीं!

blue light's impact on blood pressure

इन्फोपत्रिका, हेल्थ डेस्क.
अगर हम कहें कि आप अपने ब्लड प्रेशर को कंट्रोल करने के लिए नीली लाइट में रहना शुरू कर दें तो शायद आप कहेंगे कि क्या बकवास है. लेकिन यह बकवास नहीं है. एक ताजा रिसर्च में पता चला है कि नीली लाइट में रहने से रक्तचाप अथवा ब्लड प्रेशर कम होता है और इससे दिल की बीमारियों का खतरा भी कम हो जाता है.

दवाई के तरह काम करता है प्रकाश

यूरोपियन जनरल ऑफ प्रीवेंटिव कार्डियोलॉजी के एक अध्ययन में यह सारी बातें सामने आई हैं. इस अध्ययन में बड़ी स्पष्टता से यह बात सामने आई की नीले रंग की किरणें मनुष्य के शरीर पर बिल्कुल वैसा ही असर दिखाती हैं जैसे कि ब्लड प्रेशर को कम करने वाली दवाई.

हेल्दी फैक्ट्स- मैगी, मैकरोनी और पास्ते की हकीकत जानकर आप खाना छोड़ देंगे

डॉक्टरों की टीम ने कुछ लोगों पर इसका टेस्ट किया और उन्हें अलग अलग तरह की रोशनी में रखा गया. इसके बात जो सामने आया वह चौंकाने वाला था. डॉक्टरों ने पाया की नीली लाइट बहुत कारगर है खासकर ब्लड प्रेशर के मरीजों के लिए.

ब्लड प्रेशर को नियमित रखना क्यों जरूरी है?

blood pressure chart
यह तो आप जानते ही होंगे कि हाइपरटेंशन या हाई ब्लड प्रेशर की समस्या किसी भी समय निकाल होकर हार्ट अटैक, स्ट्रोक, और किडनी पर नकारात्मक असर डाल सकती है. इसलिए बहुत जरूरी है कि रक्तचाप को नियंत्रित अथवा कम रखा जाए. इसी संदर्भ में दुनिया भर में प्रतिदिन में शोध नए अध्ययन होते रहते हैं. यह अध्ययन भी इसी विकास क्रम का हिस्सा है.

हेल्दी फैक्ट- ये है ब्रेकफास्ट, लंच और डिनर का सही समय

फिलहाल डॉक्टर हाई ब्लड प्रेशर को कंट्रोल करने के लिए जो दवाई लिखते हैं, उसे कई सारे साइड इफेक्ट होते हैं और खांसी से लेकर थकान और सुस्ती छाई रहती है. मगर इस अध्ययन से यह पता चला की बिना दवाई के भी ब्लड प्रेशर को कंट्रोल में रखा जा सकता है.

दरअसल डॉक्टरों ने पाया था कि सर्दी के दिनों में ब्लड प्रेशर आमतौर पर कम रहता है और गर्मी के दिनों में ज्यादा. इसी को ध्यान में रखते हुए जब ब्लड प्रेशर के मरीज को सूर्य की सीधी रोशनी में लाया गया तो उन पर कुछ खास असर नहीं पड़ा या फिर उनका ब्लड प्रेशर पहले की बजाय बढ़ गया. इसके विपरीत जब उन्हें नीले रंग के प्रकाश के संपर्क में लाया गया तो उन पर असर होता दिखा. उनका रक्तचाप कम हो गया.

blood pressure monitor

हम क्या कहते हैं

दुनिया भर में कहीं ना कहीं हर रोज कोई ना कोई अध्ययन होता है और उसके कुछ नतीजे सामने आते हैं. जरूरी नहीं कि हम आंखें बंद करके उन पर भरोसा कर लें. ऐसा नहीं होना चाहिए कि हम दवाई छोड़ दें और इस नुस्खे को पकड़ कर बैठ जाएं. यदि आप किसी गंभीर समस्या से परेशान हैं तो किसी भी तरह का कोई नुस्खा आजमाने से पहले आपको अपने डॉक्टर से जरूर परामर्श कर लेना चाहिए.
ये भी पढ़ें- सोते समय सांस का अटकना, गला सूखना… बेहद खतरनाक

loading...