युवराज ने बताया वो काम जो वो करेंगे रिटायरमेंट के बाद

IPL 2018 : Yuvraj singh

इन्‍फोपत्रिका खेल डेस्‍क


छक्‍कों के बादशाह युवराज सिंह के क्रिकेट कॅरियर को बहुत से लोग अब समाप्‍त मान चुके हैं और भारतीय क्रिकेट टीम में उनकी वापसी की कोई गुंजाइश नहीं देखते। लेकिन युवराज सिंह ऐसा नहीं मानते। युवराज का मानना है कि अभी भी उनमें बहुत क्रिकेट बाकि है और अपने प्रदर्शन के दम पर वे भारतीय टीम में दोबारा जगह बनाएंगे। रिटायरमेंट के बाद युवी क्रिकेट कमेंट्री की जगह कैंसर के प्रति जागरूकता फैलाने और गरीब बच्‍चों को क्रिकेट की कोचिंग देने को प्राथमिकता देने की बात कहते हैं।


Yuvraj Singh
Image : Instagram

क्रिकेट खेलने में आता है मजा, इसलिए खेल रहा हूं

अंग्रेजी वेबसाइट स्‍पोर्ट्स स्‍टार को दिए साक्षात्‍कार में युवराज सिंह (Yuvraj Singh)ने कहा कि क्रिकेट खेलना मेरा शौक है। इसमें मुझे मजा आता है। मैं इसलिए क्रिकेट खेल रहा हूं। मैं क्रिकेट इसलिए नहीं खेल रहा कि मुझे भारतीय टीम में जगह बनानी है। युवी ने कहा कि अभी उनके सन्‍यास लेने का वक्‍त नहीं आया। अभी उनमें 2-3 आईपीएल और खेलने का दम बाकि है। गौरतलब है कि युवराज सिंह को आईपीएल (IPL)में किंग्‍स इलेवन पंजाब (Kings XI Punjab) ने अपनी टीम के लिए खरीदा है। युवराज सिंह आईपीएल को अपनी क्षमता एक बार फिर साबित करने का मौका मानते हैं।


ये भी पढ़ें- Mi ने भारत लांच कर दिया स्‍मार्ट टीवी, कीमत बहुत कम

कैंसर को हरा की थी वापसी

Yuvraj Sing
Image : Cricinfo

युवराज सिंह कैंसर के कारण तीन साल तक भारतीय टीम से दूर रहे। 2017 में उनका चयन चैंपियन ट्राफी खेलने गई भारतीय टीम में हुआ था। इस दौरे के बाद उनको टीम में नहीं चुना गया। इस पर युवराज सिंह का कहना है कि मैं एक रियल फाइटर हूं। मैं हर कठिन परिस्थिति का सामना करने के लिए तैयार हूं। मैं फिल्‍ड पर अपना सौ फीसदी देने के लिए जोर लगाता हूं। मेरा मकसद भारतीय क्रिकेट टीम में वापसी नहीं है। बल्कि मैं उन लोगों के लिए प्रेरणास्‍त्रोत बनना चाहता हूं, जो कैंसर की बीमारी से जूझ रहे हैं।


ये भी पढ़ें- छींक रोकना आपको पहुंचा सकता है अस्‍पताल

माइक नहीं थामेंगे युवी

टीम इंडिया में उनके साथी खिलाड़ी रहे सहवाग, नेहरा, गांगुली, लक्ष्मण जैसे दिग्गज खिलाड़ी फिलहाल क्रिकेट कमेंट्री कर रहे हैं। युवराज ने कहा कि उनकी ऐसी कोई योजना नहीं है। कमेंट्री उनके लिए बेहतर विकल्प नहीं है। युवराज ने इच्छा जताई है कि वह कैंसर मरीजों और कैंसर को हराने वाले लोगों के लिए काम करना चाहते हैं। युवराज सिंह का संगठन यूवीकैन (YouWeCan Foundation) कैंसर के क्षेत्र में ही काम कर रहा है। युवी का कहना है कि उनका इरादा सन्‍यांस के बाद गरीब बच्‍चों को क्रिकेट की कोचिंग देकर उनमें खेल भावना का विकास करना है। युवी ने कहा कि मैं जरूरतमंद बच्चों की तलाश करूंगा और उनके खेल और पढ़ाई पर ध्यान दूंगा। खेल की तरह ही शिक्षा भी बेहद जरूरी है। हमें दोनों पर ही फोकस करना होगा। शिक्षा की कीमत पर खेल को तरजीह नहीं दी जा सकती।

Leave a Reply

loading...